ये वक़्त भी गुज़र जायेगा !

Lifesytile, Postive Thoughts, Positive Vibes, Spritualitiy, yeh waqt bhi guzar jayega, blog, today thought, motivational thought, jeevan mantra, jeevan sallah, Attitude, avm news

ये वक़्त भी गुजर जायेगा
पर गुजरेगा कैसे ये हम बताते है

दोस्तों हर किसी की ज़िंदगी में निराशा- हताशा -गुमनामी के कई पल आते है, जब हर तरफ से उम्मीदे टूटने लग जाती है तो बस एक ही सूत्र को याद रखे की ये वक़्त भी गुजर जायेगा.
अच्छा समय हो या बुरा समय,वक़्त गुजर ही जाता है. हर व्यक्ति की ज़िंदगी में कभी न कभी ऐसा पल आता है जब लगने लगता है कि सभी तरफ से दरवाजे बंद हो गए है और परेशानी से बाहर निकलने का कोई रास्ता समझ नहीं आता. मायूसी हम पर इस कदर तक हावी हो जाती है की चारों तरफ वहीं नज़र आता है, जो हमारे मन में चलता है, कई बार हम ऐसे हालात के शिकार हो जाते है जो हमें बहुत गहराई तक नुक्सान पहुंचाते है. इसलिए आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से यह बताएंगे की वक़्त का दौर कैसा भी हो अपने बुरे वक़्त के आगे घुटने न टेके, आशा की राह एक दिन जरुर मिलेगी:-

1. धैर्य बनाएं रखे – जी हां मनुष्य की सबसे बड़ी ताकत उसका धैर्यवान होना है, क्योंकि यदि संयम इंसान में हो तो,समय कैसा भी हो कट ही जाता है, इसलिए यह कहना गलत नहीं होगा, धैर्य सुख -दुःख में साथ देने वाला हथियार है.

2. पॉजिटिव रहे – कहते है ना जैसा हम सोचते है वैसा ही हमारे साथ घटित होता है,तो बस अगला काम आपको यही करना है कि अपने आप को हमेशा सकारत्मकता की तरफ रखे क्योंकि यहीं वो ताकत है जो हमें हर स्थिति से लड़ना सिखाती है.
3. समय की ताकत को पहचानेः इंसान को समय की ताकत का पता होना चाहिए क्योंकि समय हमेशा एक जैसा नहीं होता. कभी खुशी- कभी ग़म, ये पहलू इंसान की ज़िंदगी में आते- जाते रहते है. आज अच्छा समय है, तो कल बुरा समय भी आ सकता सकता है, ऐसे में आप को परिस्थितियों के अनुसार स्थिरता बनाए रखना चाहिए.

कोशिश करते रहे – इंसान को कभी भी थक – हार के नहीं बैठना चाहिए, संम्भवतः यह होता है कि जब भी उम्मीद टूटती है तो हिम्मत हार जाती है, ऐसे में हिम्मत बनाये रखें. अगर एक बार में कोई काम नहीं हुआ, तो बार- बार करें. इस उम्मीद में न रहें की आज समय अच्छा नहीं है, कल आएगा क्योंकि कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती.
किस्मत के भरोसे न रहें – ऊपर दिए सभी बिंदुओं में सबसे बड़ा यही बिंदु है. अक्सर कुछ लोग किस्मत के भरोसे बैठे रहते है की जो लिखा है वहीं होगा पर ऐसा नहीं है, अब खुद से लिखने का समय है, तो दोस्तों आप अपनी कलम से खुद अपनी किस्मत का फैसला लिखें.
(सौरभ उपाध्याय)

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help