वट सावित्रीः पति की लंबी आयु के लिए पत्नी रखती है निर्जल व्रत

Vat savitri 2019 date, Relationship Photos, Latest Relationship Photographs, Relationship Images, Latest Relationship photos,spiritual,puja path,Somvati amavasya on 3 June, shani jayanti 2019, shani jayanti on 3 June, shani jayanti on somvati amavasya, vat savitri vrat on somvati amavasya, Shani dev birthday on somvati amavasya puja-path spiritual hindi news,Avmnews

पति पत्नी के लिए अपने अपने प्यार को दर्शाने के लिए करवा चौथ के बाद एक और त्यौहार ऐसा है जिसके रखने से पति की आयु  लंबी होता है . वट सावित्री यह व्रत 3 जून को इस बार  मनाया जा रहा है. इस दिन शादीशुदा महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं.

मान्यता है कि ये व्रत करने से पति पर आए संकट दूर हो जाते हैं. ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या वट सावित्री अमावस्या कहलाती है. इस दिन महिलाएं सौभाग्य प्राप्त करने के लिए वट सावित्री व्रत रखकर वटवृक्ष(बरगद) और यम देव की पूजा करती हैं. भारतीय संस्कृति में यह व्रत आदर्श नारीत्व का प्रतीक है. वट सावित्री व्रत में वट और सावित्री, दोनों का विशेष महत्व है.

Vat savitri 2019 date, Relationship Photos, Latest Relationship Photographs, Relationship Images, Latest Relationship photos,spiritual,puja path,Somvati amavasya on 3 June, shani jayanti 2019, shani jayanti on 3 June, shani jayanti on somvati amavasya, vat savitri vrat on somvati amavasya, Shani dev birthday on somvati amavasya   puja-path spiritual hindi news,Avmnews

सोमवती अमावस्या को ही सावित्री ने की थी सत्यवान की रक्षा

पतिव्रता सावित्री के पति सत्यवान को जब सांप ने वट वृक्ष के नीचे काटा था, तो उस दिन भी ज्येष्ठ मास की अमावस्या थी और दिन सोमवार था. सोमवती अमावस्या के दिन ही सावित्री ने यमराज से अपने पति सत्यवान के प्राणों की रक्षा की थी. अपने पति की रक्षा और सौभाग्य के लिए महिलाएं वट वृक्ष और सावित्री की पूजा अर्चना कर रही हैं तथा वट सावित्री व्रत की कथा सुन रही हैं.

Vat savitri 2019 date, Relationship Photos, Latest Relationship Photographs, Relationship Images, Latest Relationship photos,spiritual,puja path,Somvati amavasya on 3 June, shani jayanti 2019, shani jayanti on 3 June, shani jayanti on somvati amavasya, vat savitri vrat on somvati amavasya, Shani dev birthday on somvati amavasya   puja-path spiritual hindi news,Avmnews

महिलाएं ऐसे करें वट सावित्री की पूजा:

– महिलाएं सुबह उठकर स्नान कर नए वस्त्र पहनें और सोलह श्रृंगार करें.

– अब निर्जला व्रत का संकल्प लें और घर के मंदिर में पूजन करें.

– 24 बरगद फल (आटे या गुड़ के) और 24 पूरियां अपने आंचल में रखकर वट वृक्ष पूजन के लिए जाएं.

– अब 12 पूरियां और 12 बरगद फल वट वृक्ष पर चढ़ा दें.

– इसके बाद वट वृक्ष पर एक लोट जल चढ़ाएं.

– फिर वट वक्ष को हल्दी, रोली और अक्षत लगाएं.

– अब फल और मिठाई अर्पित करें.

– इसके बाद धूप-दीप से पूजन करें.

– अब वट वृक्ष में कच्चे सूत को लपटते हुए 12 बार परिक्रमा करें.

– हर परिक्रमा पर एक भीगा हुआ चना चढ़ाते जाएं.

– परिक्रमा पूरी होने के बाद सत्यवान व सावित्री की कथा सुनें.

– अब 12 कच्चे धागे वाली एक माला वृक्ष पर चढ़ाएं और दूसरी खुद पहन लें.

– अब 6 बार माला को वृक्ष से बदलें और अंत में एक माला वृक्ष को चढ़ाएं और एक अपने गले में पहन लें.

– पूजा खत्म होने के बाद घर आकर पति को बांस का पंख झलें और उन्हें पानी पिलाएं.

– अब 11 चने और वट वृक्ष की लाल रंग की कली को पानी से निगलकर अपना व्रत तोड़ें.

 

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help