फेक न्यूज पर लगाम लगाने के लिए सिंगापुर संसद में फेक न्यूज विधेयक पारित

singapore, clamps down on fake news, new law for fake news, criminalizes free speech, फेक न्यूज, फर्जी खबरें,सोशल मीडिया साइट्स, सिंगापुर में फेक न्यूज ,#topnews ,#topnews

दुनियाभर भर फेक न्यूज पर लगाम लगाने के लिए अनेकों उपाएं किए जा रहे है. इसी पहल में सिंगापुर संसद ने दो दिनों तक चली बहस के बाद फेक न्यूज से निपटने के लिए फेक न्यूज विधेयक पारित कर दिया. संसद को इसे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता मानने वाले विपक्षियों और कार्यकर्ताओं की आलोचना का शिकार होना पड़ा है. ‘द स्ट्रेट टाइम्स’ की रिपोर्ट के अनुसार, घरेलू मामले और कानून मंत्री के. शन्मुगम ने बुधवार रात इसके पारित होने के बाद कहा कि ‘ऑनलाइन फर्जीवाड़ा और हेरफेर सुरक्षा विधेयक’ नाम का विधेयक सत्तारूढ़ दल के लिए सत्ता में आने के लिए राजनीतिक उपकरण नहीं है, बल्कि यह समाज को उस आकार में बदलने के लिए है जो सिंगापुर में होना चाहिए.

शन्मुगम ने सामाजिक हितों को नुकसान पहुंचाने वाली फर्जी खबरों (फेक न्यूज) से समाज को बचाने के उद्देश्य से पेश किए गए मसौदे पर बहस के दौरान बोलने वाले 31 सांसदों को जवाब देते हुए कहा, ‘बहस सत्य की नींव, सम्मान की नींव और जहां हम अपने झूठ रखते हैं, उसकी नींव पर होनी चाहिए, जिसके लिए यह पेश किया गया है’

विधेयक के पारित होने से सरकार दो मानदंडों के आधार पर यह तय कर सकेगी कि कौन सी खबर को फर्जी खबर की सूची में डालना है. ये दोनों मानदंड- जब एक फर्जी बयान या घोषणा जारी होती है और जब यह कार्रवाई जनहित से संबंधित मानी जाती है. प्रशासन के अनुसार, यह कानून किसी की राय, आलोचना, व्यंग या पैरोडी पर लागू नहीं होता है. इसके अंतर्गत अधिकतम 10 साल की जेल और 7,33,000 डॉलर तक का जुर्माना लगाया जा सकता है.

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help