PNB Scam: मेहुल चौकसी की गिरफ्तारी से एंटीगुआ प्रशासन का इंकार

Setback for Government, PNB Scam, Mehul Choksi, India News, Nirav Modi

एक तरफ जहां नई सरकार के गठन के लिए लोकसभा चुनाव अपने आखिरी पड़ाव पर है वही इसी चुनावी माहौल के बीच पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाला मामले में केंद्र सरकार को एक बड़ा झटका लगा है. घोटाले के मुख्य आरोपी मेहुल चोकसी को एंटीगुआ प्रशासन ने गिरफ्तार करने से इनकार कर दिया है. गौरतलब है कि मेहुल चोकसी पर करीब साढ़े 13 करोड़ रुपये के घोटाले का आरोप है और वह भारत से फरार होकर एंटीगुआ में रह रहा है.

मेहुल चौकसी की गिरफ्तारी के लिए भारतीय जांच एजेंसियों ने इंटरपोल से रिपोर्ट मांगी थी. जिसपर एंटीगुआ के निदेशक पब्लिक प्रासीक्यूशन ने इंटरपोल को लिखित में सूचना दी है जिसमें उन्होनें साफ किया है कि वह चोकसी को गिरफ्तार करने से साफ इनकार कर रहे है .

इंटरपोल के इस ब्यान के बाद से भारतीय जांच एजेंसियों में हड़कंप मच गया. मेहुल चौकसी के मामले को लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव मनप्रीत वोरा और एंटीगुआ प्रशासन के बीच उच्चस्तरीय बैठक हुई और मेहुल चौकसी का नया डोजियर एंटीगुआ प्रशासन को दिया गया.

इस डोजियर में कहा गया है कि मेहुल चोकसी का पासपोर्ट रद्द किया जाए. उसे औपचारिक तौर पर गिरफ्तार कर भारत प्रत्यर्पित किया जाए. चोकसी ने साल 2017 में ही एंटीगा की नागरिकता ली थी. मुंबई पुलिस की हरी झंडी के बाद चोकसी को नागरिकता मिली थी.

 क्या है पीएनबी घोटाला मामला

पीएनबी घोटाला मामले में मेहुल चोकसी और उसका भांजा नीरव मोदी मुख्य आरोपी है. दोनों घोटाला उजागर होने के ठीक बाद भारत छोड़कर फरार हो गया था. इस पूरे मामले की जांच सीबीआई और ईडी की टीम कर रही है.

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help