सियाचिन के दौरे पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सियाचिन में तैनात सैनिकों के माता पिता को भेजेंगे आभार पत्र

पीएम मोदी की नई कैबिनेट का हिस्सा बनने के बाद नए रक्षा मंत्री  के तौर पर राजनाथ सिंह ने अपना कार्यभार संभलाते हुए आज दुनिया के सबसे ऊंचे युद्ध क्षेत्र सियाचिन ग्‍लेशियर की अपनी पहली यात्रा की. राजनाथ सिंह थल सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत के साथ थोई हवाई क्षेत्र पहुंचे, जहां उत्तरी कमान के जीओसी-इन-सी लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने उनका स्वागत किया.

Siachen Glacier, Rajnath Singh, Indian Army, Defence Minister Rajnath Singh, राजनाथ सिंह, सियाचिन, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, मोदी सरकार, भारतीय सेना

इसके बाद उन्होंने सियाचिन ग्लेशियर का हवाई सर्वेक्षण किया, ताकि वह इस भयंकर और बर्फ से जमे इलाके से परिचित हो सकें. वहां तैनात सैनिकों से रक्षा मंत्री से बातचीत की. सियाचिन बेस कैंप में सैनिकों के साथ संबोधन में उन्‍होंने कहा कि मुझे सियाचिन में सेवारत सभी सैन्य कर्मियों पर गर्व है जो अपनी मातृभूमि की रक्षा के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं तथा इनके माता-पिता पर भी गर्व है जिन्होंने अपने बच्चों को सशस्त्र बलों में शामिल होकर देश की सेवा करने के लिए भेजा है. मैं उन्‍हें व्यक्तिगत रूप से भी धन्यवाद पत्र भेजूंगा.

Siachen Glacier, Rajnath Singh, Indian Army, Defence Minister Rajnath Singh, राजनाथ सिंह, सियाचिन, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, मोदी सरकार, भारतीय सेना

रक्षा मंत्री ने सैनिकों को विश्‍वास दिलाया कि सरकार सियाचिन ग्लेशियर में उत्‍कृष्‍ट कामकाज के लिए सभी परिचालन और प्रशासनिक आवश्यकताओं के बारे में पूरी तरह परिचित है. उन्‍होंने बहादुर सियाचिन वारियर्स की आवश्यकताओं को प्राथमिकता के आधार पर पूरा करने का आश्वासन दिया है. वीर शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए उन्होंने मातृभूमि की सेवा में सर्वोच्च बलिदान देने वाले बहादुर सैनिकों की याद में बनाए गए सियाचिन युद्ध स्मारक पर माल्यार्पण किया.

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help