मोदी की सेकेंड इनिंग के लिए तैयार हो गया रायसीना हिल

प्रधानमंत्री के तौर पर  नरेंद्र मोदी एक बार फिर  से अपनी दूसरी पारी की शुरुआत करने जा रहे है, जिसके लिए देश की राजधानी को दुल्हन की तरह सजाया जा रहा है, क्योंकि आज राजधानी में देश के गणमान्य व्यक्तियों के  साथ साथ विदेशों के भी राष्ट्राध्यक्षों का स्वागत कर रही है,

इस स्वागत की खास बात यह है कि 2014 के गुजरात का एक लाल 5 साल बाद फिर भारत माता की सेवा करने के लिए तत्पर है, जिसका उदाहरण  उसे देश की जनता ने प्रचंड जीत दिला कर दिखाया कि राष्ट्र हित को सर्वोपरि रखने वाले को राष्ट्र की जनता हमेशा सर आंखों पर बैठाती है.

30 मई को होने वाले इस शपथ ग्रहण समारोह की तैयारियां जोरों पर है. इसमें बिम्सटेक देशों को निमंत्रण दिया गया है. इनकी मौजूदगी के साथ ही इस बार का ये शपथ ग्रहण समारोह काफी भव्य होने वाला है. इसमें लगभग 6500 मेहमानों के जुटने की संभावना है. इस शपथ ग्रहण समारोह के लिए खास तैयारियां शुरू हो गई हैं. आइये जानते हैं, अब तक के शपथ ग्रहण समारोह से क्या खास हैं इस बार …

इस बार सबसे ज्यादा होगी मेहमानों का तादाद

राष्ट्रपति भवन इस बार सबसे ज्यादा मेहमानों की मेहमान नवाज़ी करने वाला है. गुरुवार शाम को होने वाले इस शपथ ग्रहण समारोह में 5 से 6 हजार लोग मौजूद रहेंगे. इसमें 14 देशों के प्रमुख, कई देशों के एम्बेसडर, बुद्धिजीवी, राजनीतिक कार्यकर्ता, सिनेमा जगत की हस्तियां और कई दिग्गज लोग शमिल होने वाले हैं. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और मोदी मंत्रिमंडल का इस बात पर जोर है कि समारोह को सादा और सिंपल रखा जाए जिससे ये उतना ही ज्यादा प्रभावशाली हो सके.

इस बार भी राष्ट्रपति भवन के फोरकोर्ट में होगा शपथ ग्रहण समारोह

नरेंद्र मोदी का ये शपथ ग्रहण समारोह राष्ट्रपति भवन के फोरकोर्ट में होने वाला है, जो राष्ट्रपति भवन के मेन गेट और मेन बिल्डिंग के बीच का शानदार रास्ता है. इस जगह को राष्ट्रपति भवन में आने वाले मेहमानों, सरकार के खास लोगों और चेंज ऑफ गार्ड सेरेमनी के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है. ऐसा चौथी बार होगा जब किसी प्रधानमंत्री का शपथ ग्रहण समारोह दरबार हॉल में न होकर फोरकोर्ट में होगा. दरबार हॉल छोटे समारोह के लिए है, जिसमें केवल 500 तक ही लोग आ सकते हैं.

वेज-नॉन वेज थाली, दाल रायसीना, राजभोग..

कुछ ऐसा है खाने का इंतजाम ये समारोह काफी हद तक 2014 के समारोह के तरह ही होगा. ऊंची सीटों का इस्तेमाल होगा, जिससे शपथ ग्रहण समारोह सभी लोग आराम से देख सकें. मेहमानों के लिए हल्का खाना और नाश्ते का इंतजाम किया जाएगा. नाश्ता शाकाहारी होगा. जिसमें समोसा, राजभोग से लेकर लेमन टार्ट तक शामिल होगा. वहीं, खाना शाकाहारी और मांसाहारी दोनों तरह का होगा. सभी खाने का इंतजाम राष्ट्रपति के किचन में ही किया जाएगा.

#ModiSwearingIn

इस बार बदला गया समारोह का समय

इसके लिए समय का भी खास ध्यान रखा गया है, महमानों के लिए खाने का समय देर में रखा गया है, जो हमारे देश के मुकाबले देर से खाना पसंद करते हैं. खाने में राष्ट्रपति भवन की खास डिश “दाल रायसीना” शामिल है, जिसको बनाने में 48 घंटे से भी अधिक का वक्त लगता है.

ये दाल मंगलवार रात से ही बननी शुरू हो गई है. 2014 में 6 बजे के शपथ ग्रहण समारोह के लिए 4 से 4.30 बजे के बीच मेहमान आने लगे थे और उस वक्त तक गर्मी ज्यादा थी. पिछली बार राष्ट्रपति भवन में सुरक्षा कारणों से पानी की बोतलों का इंतजाम भी नहीं था. इन सबको दखते हुए इस बार समारोह का समय 7 बजे किया गया है, वहीं पीने के पानी का भी इंतजाम किया गया है.

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help