साल 2019 की चुनौतियों को लेकर शुरु हुई, जी-20 शिखर सम्मेलन की शुरुआत

संयुक्त राष्ट्र,यूएन,पीएम मोदी,जी 20 समिट,बैठक,जी20 शिखर सम्मेलन,Modi IN argentina, G20 summit News, fugitive economic offenders, economic offenders, G20 summit,जर्मनी,अंगेला मैर्केल,जी20,भारत,सऊदी अरब,चीन,डॉनल्ड ट्रंप,मोदी,ईयू,Prime Minister Narendra Modi, Argentina, G-20 Summit, bilateral meetings, Saudi Arabia, Mohammed bin Salman, Antonia Guterres, AVM News

19 देशों के सभी राष्ट्रपति व पीएम एक देश की छत पर एकट्ठा होकर, आगामी दशक की चुनौतियों से निपटने के तरीकों पर चर्चा करेंगे. इस बैठक की शुरुआत गुरुवार को अर्जेंटीना की राजधानी ब्यूनस आयर्स में 13वें जी-20 शिखर सम्मेलन के तहत शुरु हो चूकी है.

इस सम्मेलन में भाग लेने के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अर्जेटीना पहुंच चुके है. बता दें कि इस शिखर सम्मेलन में मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप समेत विश्व के दूसरे नेता भी शामिल हुए है.
बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी जी 20 शिखर सम्मेलन में जन धन योजना, मुद्रा योजना, आयुष्मान भारत और मृदा स्वास्थ्य कार्ड जैसे महत्वपूर्ण कार्यक्रमों पर भी बोलेंगे व अपने विचारों को सम्मेलन में मौजूद सभी देशों के अध्यक्षों के समक्ष रखेंगे.

क्या है जी20
“ग्रुप ऑफ 20”. एक ऐसा समूह जिसमें 19 देश हैं और 20वां हिस्सेदार है यूरोपीय संघ. सभी भागीदार साल में एक बार एक शिखर सम्मेलन में एक दूसरे से मिलते हैं. इन बैठकों में राज्यों के सरकार प्रमुखों के साथ उन देशों के केंद्रीय बैंक के गवर्नर भी शामिल होते हैं. यूरोपीय संघ का प्रतिनिधित्व यहां यूरोपीय आयोग करता है और साथ ही यूरोपीय केंद्रीय बैंक भी बैठक में हिस्सा लेता है. मुख्य रूप से यहां आर्थिक मामलों पर चर्चा होती है.

कौन कौन है इसके सदस्य
यूरोपीय संघ के अलावा ये 19 देश जी20 के सदस्य हैं: अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, मेक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, तुर्की, ब्रिटेन और अमेरिका. ये सभी सदस्य मिल कर दुनिया के सकल उत्पाद यानी जीडीपी का 85 फीसदी हिस्सा बनाते हैं.

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help