शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के बाद पीएम ने की श्री लंका, मॉरिशस व किर्गिस्तान के महामहिमों से मुलाकात

लोकसभा चुनाव में भारी जीत के बाद गुरुवार को हुए पीए मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में  बिम्सटेक में भागीदार देशों को आमंत्रित किया जिन्होंने गुरुवार को पीएम के शपथ समारोह में शिरकत की. पीएम के समारोह में शिरकत करने के पश्चात आज पीएम नरेंद्र मोदी ने औपचारिक तौर पर बिम्सटेक के देशों  के आए अतिथियों से मुलाकात की , जिसमें मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ, श्रीलंका के राष्‍ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना व किर्गिस्तान के राष्ट्रपति श्री सूरोनबे जीनबेकोव शामिल है. यह उन मेहमानों में शामिल है जिन्हें को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और मंत्रिपरिष्द के शपथ ग्रहण समारोह में शिरकत की.

मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ से पीएम की मुलाकात 

आज हुई प्रधानमंत्री मोदी के साथ अपनी द्विपक्षीय बैठक के दौरान प्रधानमंत्री जगन्नाथ ने पीएम मोदी को एक शानदार जनादेश प्राप्त करने तथा उनके पुन: निर्वाचित होने पर हार्दिक शुभकामनाएँ दीं. देते हुए सभी क्षेत्रों में दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय तथा स्थायी संबंधों को और मजबूत करने की अपनी प्रतिबद्धता को दोहराया. दोनों नेताओं ने हिंद महासागर क्षेत्र की सुरक्षा तथा विकास की साझा दृष्टि को हासिल करने के लिए मिलकर काम करने पर सहमति जताई.

 

 

किर्गिस्तान  के  राष्ट्रपति से पीएम की मुलाकात 

इसके साथ ही वर्तमान में किर्गिस्तान शंघाई सहयोग संगठन के अध्यक्ष व किर्गिस्तान के राष्ट्रपति श्री सूरोनबे जीनबेकोव  से भी मुलाकात की . गौरतलब है कि किर्गिस्तान मध्य एशिया में भारत का एक महत्वपूर्ण भागीदार है. राष्ट्रपति जीनबेकोव ने गर्मजोशी से प्रधानमंत्री को बधाई दी और 13-15 जून, 2019 तक होने वाले एससीओ शिखर सम्मेलन तथा एक द्विपक्षीय यात्रा के लिए किर्गिस्तान आने का निमंत्रण दिया.

श्री लंका के  राष्‍ट्रपति  से पीएम की मुलाकात 

इसके साथ ही पीएम ने लंका के राष्‍ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना से भी मुलाकात करते हुए शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए उनका आभार व्यक्त किया. मैत्रिपाला ने भी पीएम नरेंद्र मोदी को जनादेश के साथ एक बार फिर से सत्ता संभालने के लिए बधाई दी  . व अपने क्षेत्र में शांति, समृद्धि और सुरक्षा के लिए दोनों देशों के बीच संबंधों को मजबूत करने के लिए मिलकर काम करने की प्रतिबद्धता दोहराई.

दोनों नेताओं ने बताया कि आतंकवाद और अतिवाद मानवता के लिए चुनौती बने हुए हैं और उन्‍होंने दक्षिण एशिया तथा हिन्‍द महासागर क्षेत्र में शांति और सुरक्षा के लिए निकटतापूर्वक द्विपक्षीय सहयोग के लिए प्रतिबद्धता व्‍यक्‍त की.

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help