महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देता पिक पोलिंग बूथ

Jamaat-E-Islami Hind, Muslims, Vote, Sp-Bsp, Voting, Elections 2019

लोकतंत्र का सबसे बड़े पर्व को मनाने के लिए आज देश की जनता सड़कों पर उतरी है , इस चिलचिलाती धूप में वह अपने मतदान का उचित प्रयोग कर देश के साथ साथ अपने राज्य के लिए भी उचित सरकार के लिए  वोट कर रही है, ताकि देश के साथ साथ राज्य का विकास भी  पिछले पांच साल की अपेक्षा और भी तीव्र गति से हो.

वहीं इस लोकसभा चुनाव में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ावा देने के लिए, चुनाव आयोग (EC) ने नोएडा के बाल भारती स्कूल में पिंक पोलिंग बूथ या ऑल वुमेन पोलिंग बूथ बनाया है. यह पोलिंग बूथ केवल महिला कर्मचारियों के साथ बनाया गया है, ताकि महिला सशक्तिकरण का संदेश दिया जा सके. इन विशेष बूथों पर पीठासीन अधिकारी, मतदान अधिकारी, माइक्रो पर्यवेक्षक और सुरक्षाकर्मी सभी महिलाएँ होंगी. लोकसभा चुनाव 11 अप्रैल से शुरू होंगे और 19 मई तक सात चरणों में होंगे, दिल्ली में 12 मई को चुनाव होंगे, जबकि चुनाव के नतीजे 23 मई को घोषित किए जाएंगे.

क्या है पिंक बूथ?

– पिंक बूथ पर तैनात चुनाव अधिकारी से लेकर सुरक्षा अधिकारी तक सिर्फ महिलाएं होती हैं.

– ये बूथ बनाए तो महिलाओं के लिए गए हैं, लेकिन पुरुष भी यहां जाकर वोट डाल सकते हैं.

– इन बूथों को बनाने के लिए इस्तेमाल किया गया कपड़ा, टेबल क्लॉथ, गुब्बारे से लेकर हर कुछ गुलाबी रंग का होता है.

– यहां बच्चों के खेलने के लिए भी जगह होती है और वो भी गुलाबी रंग की.

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help