तेलांगना सरकार ने बर्खास्त किए 48,000 हड़ताली कर्मचारियों

तेलांगना सरकार ने बर्खास्त किए 48,000 हड़ताली कर्मचारियों

तेलंगाना  राज्य सड़क परिवहन निगम  की अनिश्चितकालीन हड़ताल को लेकर राज्य सरकार ने एक कड़ा फैसला सामने आया है जिस पर केसीआर सरकार ने एक बड़ा फैसला लेते हुए रविवार को  हड़ताल पर गए 48,000 हड़ताली कर्मचारियों को उनकी  सेवा से बर्खास्त करने की घोषणा की.

बता दें कि सरकार से राज्य सड़क परिवहन निगम  के कर्मचारियों ने अपनी समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर  वह अनिश्चितकालीन हड़ताल पर थे.

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने इस मामले पर परिवहन विभाग के अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बैठक की. बैठक खत्म हो जाने के बाद उन्होंने कहा कि आरटीसी में अब केवल 1,200 कर्मचारी हैं जो हड़ताल में शामिल नहीं हुए थे. इसके अलावा वो कर्मचारी भी आरटीसी का हिस्सा रहेंगे जो शनिवार शाम छह बजे तक ड्यूटी पर आ गए. सरकार ने हड़ताल खत्म करने के लिए शनिवार शाम 6 बजे तक की समय सीमा तय की थी.

बता दें कि यह मामला पड़ोसी राज्य आंध्र प्रदेश की तर्ज पर कर्मचारी राज्य सरकार के साथ आरटीसी के मर्जर की मांग कर रहे हैं. आंध्र प्रदेश में सरकारी कर्मचारियों के रिटायरमेंट की अवधि 60 साल हो गई है. इतना ही नहीं वे अप्रैल 2017 से लंबित अपने वेतन में संशोधन की भी मांग कर रहे हैं. इसके साथ ही कर्मचारियों पर काम का बोझ कम करने के लिए निगम में नई भर्ती भी चाहते हैं.

एक आधिकारिक आदेश में कहा गया था कि जो कर्मचारी चार अक्टूबर की शाम छह बजे तक काम पर वापस नहीं लौटेंगे उन्हें किसी भी स्थिति में दोबारा काम पर नहीं रखा जाएगा.

तेलांगना आरटीसी एम्प्लॉइज एंड वर्कर की संयुक्त समिति के आवाहन के बाद लगभग 49,340 कर्मचारी हड़ताल पर हैं.

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help