कश्मीर से कन्याकुमारी और राजस्थान से पूर्वोत्तर को एक सूत्र में बांधता है स्वतंत्रता दिवस

Independence Day 2019,15 अगस्त,Independence day,India independence day,लॉर्ड माउंटबेटन,c rajagopalachari,Indian Independence Bill,indian independence,15 August,15 August 2019,Happy Independence Day

भारत का स्वतंत्रता दिवस ऐतिहासिक महत्व रखता है, क्योंकि इस दिन हम राजनीतिक तौर पर आजाद हुए और हमने लोगों के दिल और दिमाग में राष्ट्रीयता का विचार पैदा करना शुरू किया. अगर ऐसा न होता, तो लोग अपनी जाति, समुदाय व धर्म आदि के आधार पर ही सोचते रह जाते. हालांकि, भारतीय होने का यह गौरव केवल एक भौगोलिक सीमा के ऊपर खड़ा था.

15 अगस्त 2019 को देश 73वां स्वतंत्रता दिवस मनाने जा रहा है. लाल किले के प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रीय झंडा तिरंगा फहराएंगे. हमारा तिरंगा देश की एक एकता, अखंडता की पहचान है. यह कश्मीर से कन्याकुमारी और राजस्थान से पूर्वोत्तर को एक सूत्र में बांधता है. देश में अनेकता और विभिन्नता के बावजूद यही वह प्रतीक है जिसके जरिए हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई, अमीर-गरीब को एक साथ लाता है.

भारत का यह राष्ट्रीय त्यौहार इस बार काफी मायनों में महत्वपूर्ण है, परिवार रुपी देश से उसका एक बेटा छिटक रहा था, जिसे 5 अगस्त को मना कर वापस मिला लिया गया . पर क्या आपको मालूम है जिस  मजहबी फसाद में देश आजादी के 73 वर्षों में भी निकल नहीं पा रहा है जिस समय आजादी की शहनाई सुनाई दी थी देश में, उस समय भारत की जनगणना 1951 के अनुसार विभाजन के एकदम बाद 1,447,5000 थी जिसमें से  72,26,000 मुसलमान भारत छोड़कर पाकिस्तान चले गये और 72,49,000 हिन्दू और सिख पाकिस्तान छोड़कर भारत आए थे.

वह आज भी आजाद भारत में शान से जी रहे पर आज यह शान कही धीमी हो रही है. भले ही लाल किले की प्राचीर से वर्तमान के प्रधानमंत्री देश की अखंडता की बात कहते आ रहे है पर इस अखंडता को बनाएं रखने के लिए वह विकासशील  पगडंडियों के सहारे भारत को विकसित करने का प्रयत्न भी कर रहे है. पर कुछ लोग इस कार्य बाधक बन रहे पर  फिर भी वह भारत को विश्व के सभी महत्वपूर्ण मंचों को भारत को बड़ी मुखरता के साथ मिला कर विकसित देश की पहचान बनाने में जुटे हुए है. इसलिए तो आज भी देश की शान  तीन रंगों का भारतीय तिरंगा बड़ी ही शान और अदब से फहरा रहा है और अपनी तरफ हर घूरती नजर को संदेश दे रहा है कि

डरता नहीं मैं तुझसे तेरे रुबाब से

क्योंकि जिस शान और अदब की तू बात करता है

उसी ताकत और शान से तो मैं हमेशा लहराता हूं

 

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help