अमेरिका के हिरोशिमा पर परमाणु हमले की 74 वीं बरसीं

atom bomb, nuclear power, america military power, japan military power, what is hiroshima day, परमाणु बम, परमाणु शक्ति, अमेरिका सैन्य ताकत, जापान सैन्य ताकत, हिरोशिमा डे क्या है

अमेरिका ने अपने लिटिल बॉय से 6 अगस्त1945  में जापान के हिरोशिमा पर परमाणु हमला कर साबित किया था कि  अमेरिका दुनिया का इकलौता देश है, जो परमाणु शक्ति से संपन्न है साथ ही उसके इस कृत्य को मानव इतिहास में सबसे बड़ा नरसंहार  बता या गया था है. इ परमाणु हमले का असर आज तक जापान के इन दोनों शहरों पर दिखता है.

6 अगस्त 1945 को अमेरिका ने जापान के हिरोशिमा शहर पर परमाणु बम गिराया था, जिसमें 80 हज़ार लोग मौके पर ही मारे गए थे और अगले कुछ समय में रेडिएशन से 80 हज़ार लोग. इस हमले से उपजे रेडिएशन से घातक रोगों के शिकार लोगों की मौत भी जोड़ी जाए तो हिरोशिमा पर परमाणु हमले से करीब 2 लाख लोग मारे गए थे.

हिरोशिमा के तीन दिन बाद 9 अगस्त को नागासाकी पर परमाणु बम से हमला किया गया था और जापान पूरी तरह तबाह हो गया था. साथ ही, मानव युद्ध इतिहास की सबसे बड़ी त्रासदी भी जन्म ले चुकी थी. इस हमले पर बाद में, कई बार अमेरिका भी पछतावा ज़ाहिर कर चुका और दुनिया के तमाम देश हमेशा इसकी आलोचना करते रहे. जानिए कि दूसरे विश्व युद्ध के समय अमेरिका ने आखिर क्यों और कैसे जापान पर इस भीषण हमले का फैसला किया था.

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help