कैसी रहेगी इस बार बॉक्स आफिस पर URI और The Accidental Prime Minister के बीच कांटे की टक्कर

हर फ्राइडे बॉक्स ऑफिस पर एक नयी कहानी रिलीज होती है ऐसे में इस शुक्रवार 11 जनवरी को बॉक्स ऑफिस पर 2 ऐसी फिल्म आ रही हैं जो पूरी तरह से सच्ची घटनाओं पर आधारित है. एक, विजय गुट्टे के निर्देशन में बनी फिल्म एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर, जिसमे अनुपम खेर ने एक्स प्राइम मिनिस्टर मनमोहन सिंह का रोल बड़ी ही बारीकी से निभाया है और दूसरी हमारे देश के आर्मी हीरोज पर बनी मूवी ‘उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक’ जिसकी कहानी 2016 में भारत के जरिए पाकिस्तान में हुई सर्जिकल स्ट्राइक पर आधारित है.

क्या है दोनों फिल्मों की कहानी
दोनों ही फिल्मों की कहानी बढ़ी दिलचस्प है जो कहीं न कहीं कांग्रेस के नेताओं की छवविओं पर असर डाल सकती है. यह दोनों फिल्में वास्तविकता पर आदारित होने के कारण इनकी कहानी इतनी बेहतरीन है की लोग कहीं न कहीं इस उलझन में जरुर पड़ेंगे की आखिर इस शुक्रवार वह किसका शो पहली बारी में देखें.

सर्जिकल स्ट्राइक की कहानी की बात करें तो यह हमारे रियल हीरोज पर बनी है. इसमें 2016 में वर्तमान सरकार के जरिए हुई सर्जिकल स्ट्राइक की पूरी कहानी बताई गई है आखिर, कैसे भारत ने पाकिस्तान की सरजमीं पर आतंक को करारा जवाब उरी हमले के रुप में दिया था.
इस पूरे प्लान को सरकार और सेना ने किस तरह अंजाम दिया, ऐसी काफी दिलचस्प बातों को जानने के लिए आदित्य धार के निर्देशन में बनी फिल्म उरी को देखना ज़रूरी होगा. फिल्म में सर्जिकल स्ट्राइक से जुड़ी काफी बारीकियों को बेहद उम्दा तरीके से फिल्माया गया है. मल्टीस्टारर मूवी में विक्की कौशल, परेश रावल, यामी गौतम, मोहित रैना लीड रोल में हैं.

वहीं जो लोग पॉलिटिक्स में काफी दिलचस्पी रखते हैं उनके लिए मूवी दा एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर काफी खास रहेगी. इस फिल्म की कहानी डॉ मनमोहन सिंह के 2004 में सत्ता में आने से जुड़ी हैं. मनमोहन सिंह के मिडिया सलाहकार संजय बारू की किताब पर आधारित है ये फिल्म देश के लोगों को कांग्रेस से जुड़े ऐसे कई सवालों का जवाब देगी, जो उन्हें डॉ. मनमोहन सिंह के कार्येकाल से रहे हैं. इसमें बीजेपी सांसद किरण बेदी के पति अनुपम खेर के साथ साथ अक्षय खन्ना ने भी प्रमुख भूमिका निभाई है. ये फिल्म ट्रेलर रिलीज़ के बाद से ही काफी चर्चा में बनी रही क्योंकि कांग्रेस नेताओं ने इसका काफी विरोध किया है जिसपर कांग्रेस कार्यताओं का कहना है कि ये मूवी बीजेपी की एक चाल है जो कांग्रेस वोट बैंक को कम करने की कोशिश है जिसके खातिर बाजेपी ने यह मूवी 2019 के चुनाव से 5 महीने पहले ही क्यों रिलीज़ हो रही है. वहीं जनता का कहना है की हम इतने बेवक़ूफ़ नहीं है की एक मूवी से अपना वोट तय करे. अब ये तो इस मूवी की रिलीज़ ही बताएगी की 2019 चुनाव पर इसका असर पड़ेगा या नहीं.

दोनों ही फिल्म के सब्जेक्ट काफी बेहतरीन है अब ये तो 11 जनवरी को ही मालूम पड़ेगा की बीजेपी समर्थित कौन-सी फिल्म पर्दे पर अपना कमाल दिखाएगी और कौन-सी मूवी को नुकसान से झूझना पड़ेगा

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help