विरोधी भी सिखलाते है जीत का मंत्र

Win, lose, life spells, competing,जीत, हार, लाइफ मंत्र, प्रतिस्पर्धा

आज के समय में सफलता क्या है, आखिर, क्या है उसके मायने, आसानी से मिलती नहीं पर जब भी हाथ आती है, इंसान को फर्श से अर्श पर लाकर खड़ा कर देती है, बधाइयां मिलती हैं, जश्न मनाया जाता है, मान-सम्मान भी बढ़ता है. पर हमेशा याद रखना चाहिए जिसने एक बार सफलता का स्वाद चख लिया, उसके लिए जीत इतनी ही तो नहीं होती.

वह हर बार मिली सफलता को बार बार दोहराना चाहता  है, पर यह सफलता हमेशा अथक प्रयासों से मिलती है यह प्रयास केवल मानसिक ही नहीं वरन भाषामयी भी होती है, जिसका प्रयोग कर आप अपनी सफलता के साथ साथ दिल भी जीतते हुए बढ़ते हैं. और सही मायने में सफलता की परिभाषा भी यहीं कहलाती है, जो दोस्तों और दुश्मनों दोनो के साथ साथ आगे बढ़ती है.

अक्सर यह बात हम सफलता मिलने पर भूल जाते है कि इसे पाने के लिए जितना साथ सफल व्यक्तियों ने दिया उतना ही साथ उन व्यक्तियों का भी है , जो आपकी एक बार की नाकामयाबी के लिए आपको हमेशा सुनाते है, क्योंकि यह उनका ही सुनाना होता है, जिसके कारण आपका पुनः प्रयास एक नई ऊर्जा के साथ होता है, जिससे आपको आपकी सफलता का रास्ता साफ दिखने लगता है.

अक्सर कहते है सफलता पाने के बाद कभी भी आपको उसमें सहयोग देने वाले व्यक्तियों को नहीं भुलाना चाहिए और ना ही उसे पाने के लिए उन साथियों जिन्होंने आपको आपकी हार के लिए कोसा था, क्योंकि अक्सर देखा गया है कि सफलता पाने के बाद वह व्यक्ति के सर बोलती हुई दिखाई देती है, इसलिए अक्सर ऐसी विपरीत स्थितियों से बचना चाहिए, और इन विपरीत स्थितियों से कैसे बच सकते है यह आज हम आपको बताएंगे जो इस प्रकार हैः-

घर, ऑफिस, खेल या राजनीति, बड़ी सफलता हासिल करने के लिए हमें उन लोगों को भी साथ लेकर चलना चाहिए है, जो हमारे विरोधी होते हैं, जिनके साथ हमारी नहीं बनती. मैनेजमेंट की कक्षा में यह सबक सिखाया जाता है कि आपको कभी भी, कहीं भी दोस्त की जरूरत हो सकती है. और यह दोस्त आपको अपने विरोधी में भी मिल सकते है.

बड़े दिल वाले बाजीगर

  1. जीत का श्रेय साथ काम करने वालों को देते हैं. उनके साथ अपनी खुशी बांटते हैं.
  2. जीत के बाद विनम्र हो जाते हैं. आक्रामक या उग्र नहीं होते. ‘अपने लिए पहले से बड़े लक्ष्य तय करते हैं. ऐसे लक्ष्य और कामों पर भी ध्यान देते हैं, जिनमें दूसरों का भी फायदा हो.
  3. पहले से अधिक मेहनत करने के लिए तैयार रहते हैं. अपनी सीमाओं का विस्तार करते हैं और कमजोर पक्षों को सुधारते हैं.
  4. सही आलोचना करने वालों पर ध्यान देते हैं. बुरी सोच रखने वालों पर अपनी ऊर्जा खर्च नहीं करते.
  5. जीत के बाद विरोधियों की अच्छी बातों की तारीफ करते हैं। उनके साथ मिलकर काम करने की भी इच्छा जाहिर करते हैं

 

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help