9 /11 हमलाः 18 साल बाद की टीस आज भी दिखती है अमेरिका के लोगों के चेहरे पर

9/11 Anniversary,September 11 attacks,World Trade Center,attack on World Trade Centre,11 September,11 September 2001,11 सितंबर 2001,9/11,9 11,वर्ल्ड ट्रेंड सेंटर,9/11 terrorist attack anniversary,september 11 terror attack,9/11 attack,18t

अपनों को खोने का दर्द क्या होता है यह उनसे पूछना बहुत मुश्किल होता है , जिन्होंने चंद घंटों में ही अपने लोगों से दूर होने की पीड़ा को साहा हो, ऐसी ही पीड़ा का सामना  दुनिया में विकसित देशों की श्रेणी में आने वाले देश अमेरिका  के लोगों ने सहीं थी, 2001 में 11 सितंबर की सुबह जब वहां के  कुछ नागरिक अपने दफ्तरों के लिए अपने परिवार से मिल के निकले थे उस दिन की सुबह यानी 11 सितंबर की सुबह अमेरिका ने आतंकी हमले का ऐसा जख्म  लगा था  जिससे अमेरिका के साथ साथ पूरी दुनिया भी कांपा था,

2001 में 11 सितंबर के दिन आतंकवादियों ने यात्री विमानों को मिसाइल की तरह इस्तेमाल करते हुए अमेरिका के विश्वप्रसिद्ध वर्ल्ड ट्रेड टावर और पेंटागन को निशाना बनाया. इसे अमेरिका के इतिहास में अब तक का सबसे बड़े आतंकी हमले के तौर पर देखा जाता है.

साल 2001 में अमेरिका में आतंकी संगठन  अलकायदा के आतंकवादियों ने विमान अपहरण कर न्यूयार्क के वर्ल्ड ट्रेड टावर की दो इमारतों, वर्जीनिया स्थित पेंटागन और पेन्सिलवेनिया पर हमला किया. इस हमले में 2977 लोगों की मौत हुई थी. दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश पर ये सबसे भीषण और बर्बर हमला था, जिसने समूची मानवता को शर्मिंदा कर दिया.

इस घटना के बाद से ही अमेरिका आतंकवाद के खिलाफ सदैव दूसरे देशों को लड़ने के लिए प्रत्साहित करता रहता है तथा साथ ही उसने अमेरिका पर हुए इस बर्बर हमले का मुहतोड़ जवाब 2 मई 2011 को पाकिस्तान के एबटाबाद में एक गुप्त कार्रवाई करते हुए आतंकी संगठन  अलकायदा के चीफ ओसामा बिन लादेन को मारने के साथ साथ इस संगठन का नामों निशान मिटा दिया.

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help