आस्था के पर्व से कुंभ से भरा उतर प्रदेश का राजस्व खजाना

आस्था का पर्व माने जाने वाले कुंभ में इस बार रिकार्ड तोड़ श्रद्धालु के आने से कुंभ की भी आभा देखते ही बन रहीं है. वही बताया जा रहा है कि इस बार के कुंभ का आयोजन करने के लिए योगी सरकार ने 4,200 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं और अब उम्मीद यह जताई जा रही है कि इन राज्य के खजाने में इससे ज्यादा यानि लगभग 1,200 अरब रुपये का राजस्व आ सकता है.

यह आंकड़ा भारत के गैर-सरकारी उद्योग मंडल भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) का मानना है. सीआईआई की एक रिपोर्ट के मुताबिक 15 जनवरी से 4 मार्च तक आयोजित होने वाला कुंभ मेला हालांकि धार्मिक और आध्यात्मिक आयोजन है मगर इसके आयोजन से जुड़े कार्यों में छह लाख से ज्यादा कामगारों के लिए रोजगार मिला है.

उत्तर प्रदेश सरकार ने 50 दिन तक चलने वाले कुंभ मेले के लिए आयोजन के लिए 4,200 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं जो वर्ष 2013 में आयोजित महाकुंभ के बजट का तीन गुना है. सीआईआई के अध्ययन के मुताबिक कुंभ मेला क्षेत्र में आतिथ्य क्षेत्र में करीब ढाई लाख लोगों को रोजगार मिलेगा. इसके अलावा एयरलाइंस और हवाई अड्डों के आसपास से करीब डेढ़ लाख लोगों को रोजी-रोटी मिलेगी.

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help